{Best 110+ } Nafrat Shayari दर्द भरी नफरत भरी शायरी ( Nafrat quotes)

Nafrat Shayari
5/5 - (1 vote)

दोस्तों आज हम आपके नफरत भरी शायरियां लाए है अगर अपने किसी से सच्चा प्यार किया था और उस प्यार ने आपको धोखा दे दिया तो अब आप प्यार के नाम से भी नफरत करते हैं तो हम आपके लिए नफरत भरी शायरियां हिंदी में लेकर आए हैं इन शायरियों को आप कॉपी करके अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर भी लगा सकते हैं। इस पोस्ट मे आपको हर तरह की Nafrat Shayari  मिलेगी जैसे- I hate love shayari, nafrat bhari shayari, mohabbat nafrat shayari, nafrat quotes hindi, nafrat wali shayari, nafrat shayari status, 

 

Nafrat shayari in hindi बेवफा नफरत शायरी

 

nafrat shayari 2 line
nafrat shayari 2 line

 

दिल लगा है तो लगा रहने दीजिए
इश्क करने की एक सज़ा रहने दीजिए
नफ़रत करिये हमसे पर दिल ना लौटाइये
ज़िन्दा रहने की कोई तो वजह रहने दीजिए।

Dil laga hai to laga rahne dijiye
ishq karne ki ek saza rahne dijiye
Nafrat kariye humse par dil na lautaiye
zinda rahne ki koi to wajah rahne dijiye....
कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था । 

Kabhi usne bhi hame chahat ka paigam
likha tha
Sab kuch usne apna hamaare naam likha tha
Suna hai aaj unko hamare zikr se bhi nafrat hai
Jisne kabhi apne dil par hamara naam likha tha.... 


वो इंकार करते है इकरार के लिए
नफरत करते है तो प्यार के लिए
उलटी चाल चलते है ये इश्क़ वाले
आंखें बंद करते है दीदार के लिए। 

Vo inkar karte hai ikraar ke liye
Nafrat karte hai toh pyar ke liye
Ulte chal chalte hai ye ishq wale
Ankhe band karte hai didaar ke liye... 
जब चाहा उसने अपना बनाया मुझे
मन भरने पर उसने ठुकराया मुझे
गुस्सा आता था सिर्फ उसके झूठे प्यार पर
अब नफरत करना उसने सिखाया मुझे । 

Jab chaha usne apna banaya mujhe
Man bharne par usne thukraya mujhe
Gussa ata tha sirf uske jhothe pyar par
Ab nafrat karna usne sikhaya mujhe.... 
मोहब्बत नफरत सुकून दर्द गम 
सब कुछ बदल जाता है
जब वक्त खराब हो तो इंसान भी बदल जाता है।

 Mohabbat nafrat sukoon dard gam
Sab kuch badal jata hai
Jab waqt kharab ho toh
Insaan bhi badal jata hai.... 

 

Nafrat shayari 2 line in hindi

 

चाह कर भी मुंह फेर नहीं पा रहे हो
नफरत करते हो या इश्क़ निभा रहे हो । 

Chakar bhi mooh fer nhi paa rahe ho
Nafrat karte ho ya ishq nibha rahe ho.... 
तेरी नफरत ने ये क्या सिला दिया मुझे
ज़हर गम-ए-जुदाई का पीला दिया मुझे।

Tere nafrat ne ye kya sila diya mujhe
Zahar gam-e-judai ka pila diya mujhe..... 
 
नफरत शायरी इमेज
नफरत शायरी इमेज
तू करीब थी मेरी नजर में बस दूर तेरा शरीर था
तू मेरे नसीब थी मेरी नजर में पर मैं तो बदनसीब था । 

Tu kareeb thi meri nazar me
Bas door tera shareer tha
Tu mere naseeb thi meri nazar me
Par mai to badnaseeb tha...

 

उन्हें नफरत हुयी सारे जहाँ से
अब नयी दुनिया लाये कहाँ से।

Unhe nafrat hui sare jahan se
Ab nayi duniya laye kaha se.... 

 

ना जाने क्या कहा था डूबने वाले ने समंदर से
की लहरें आज तक साहिल पर अपना सर पटकती है। 

Na jane kya kaha tha dubne wale ne samandar se
Ki Lahren aaj tak sahil par apna sar patakti hai... 

Read More-

छोड़कर दूर जाने वाली शायरी ।

 

मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना 
ज़रा से भी चुके तो मोहब्बत हो जाएगी । 

Mujhse nafrat hi karne hai toh irade majboot rakhna
Jara se bhi chuke toh mohabbat ho jayegi... 
 
 
टूटने का अहसास उन गुलाबों से पूछो जो खुद टूट कर
दो दिलों को मिला देता हैं और खुद बिखर जाता है। 

Tootne ka ahsaas unn gulao se pucho jo khud totkar
Do dilo ko mila deta hai aur khud bikhar jata hai.... 
तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िंदगी हमने
सोचो अगर तुम मोहब्बत करते तो हम क्या करते।

Tumhare nafrat par bhi luta di zindagi hamne
Socho agar tum mohabbat karte toh hum kya karte....
मैं काबिले नफरत हूँ तो छोड़ दे मुझको तू
मुझसे यूँ दिखावे की मोहब्बत न किया कर । 

Mai kabile nafrat hu toh chodh de mujhko Tu
Mujhse yu dikhabe ki mohabbat na kiya kar... 
नफरत करनी हर किसी को नहीं आती
ये तो बस प्यार में जख्मी लोगों का काम है । 

Nafrat karne har kise ko nhi aati
Ye toh bas pyar me zakhmi logo ka kaam hai.. 



नफरत सी होने लगी है इस जिंदगी के सफर से अब
ज़िन्दगी कही तो पहुचा दे खत्म होने से पहले । 

Nafrat se hone lagi hai iss zindagi ke safar se ab
Zindagi kahi to pahucha de Khatam hone se pahle.... 

 

Nafrat Shayari for boyfriend झूठ से नफरत शायरी

गुजरे हैं इश्क़ में हम इस मुकाम से
नफरत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से
हम वो नहीं जो मोहब्बत में रो कर के जिंदगी को गुजार दे
अगर परछाई भी तेरी नजर आ जाए तो उसे भी ठोकर मार दें।

Gujare Hain Ishq Mein Ham Is Mukaam Se
Nafrat Si Ho Gai Hai Mohabbat Ke Naam Se
Ham Wo Nahin Jo Mohabbat Mein Ro Kar Ke
Zindagi Ko Gujaar De
Agar Parchhai Bhi Teri Najar Aa Jaye
To Use Bhi Thokar Maar Den......


दिलो में नफ़रत रखकर
मस्जिद में नहीं जाया करते
वो सजदे साफ़ कपड़ो को नहीं
दिल को देखकर कुबूल करता है ।

Dilo Main Nafrat Rakhkar
Masjid Main Nhi Jaya karte
Vo Sajde Saaf Kapdo Ko Nhi
Dil Ko Dekh Kar Kubul Karta Hai.....

 

nafrat shayari dp
nafrat shayari dp

 

इस बदलते वक्त ने मेरी तकदीर को ही बदल दिया
और जिंदगी ने दर्द इतना दिया कि
हंसते हुए चेहरे की तस्वीर को ही बदल दिया। 

Iss badaltey waqt ne mere takdeer ko hi badal diya
Aur zindagi ne dard itna diya ki
Haste hue chehre ki tasveer ko hi badal diya....

 

 

उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया
कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ ।

Usne nafrat se Jo dekha hai toh yaad aya
Kitne rishte uske khatir yu hi Tod aya hu
Kitne dhundle hai ye chehre jinhe apnaya hai
Kitne ujli thi vo ankhe jinhe chhodh aaya hu....

 

khud se nafrat shayari(जिंदगी से नफरत शायरी) 


अगर इतनी ही नफरत है हमसे तो
दिल से कुछ ऐसी दुआ करो
की आज ही तुम्हारी दुआ भी पूरी हो जाये
और हमारी ज़िन्दगी भी।

Agar Itni Hi Nafrat Hai Hamse To
Dil Se Kuch Aisee Dua Karo
Ki Aaj Hi Tumhari Dua Bhi Poori Ho Jaaye
Aur Hamari Zindagi Bhi.......
तुझसे बेशक मोहब्बत थी पर अब नफरत कई ज्यादा है
भरोसा था तुझ पर अब शक कई ज्यादा है।

Tujhse beshak mohabbat thi par ab nafrat kai jyada hai
Bharosa tha tujhe par ab Shak kai jyada hai......


लोग कहते हैं जब कोई अपना दूर चला जाता है
तो बड़ी तकलीफ होती है
पर ज्यादा तकलीफ तो तब होती है जब कोई
अपना पास होकर भी दूरियाँ बना ले। 

Log kehte hai jab koi apna door chala jata hai
Toh badi takleef hoti hai
Par jyada takleef toh tb hote hai jb koi
Apna pass hokar bhi dooriyan bana lee.....


मुझसे नफरत की अजब राह निकली उसने
हँसता बसता दिल कर दिया खाली उसने
मेरे घर की रिवायत से वो खूब था वाकिफ
जुदाई माँग ली बन के सवाली उसने ।

Mujhse nafrat ki ajab raah nikali usne
Hasta basta dil kar diya khali usne
Mere Ghar ki rivayat se vo khoob tha wakeef 
Judai mag le banke savali usne.....
आते जाते तुम मुझे रुलाते रहे
मेरे दिल में जागे प्यार को सुलाते रहे
मैने बहुत कोशिश की तुमसे नफरत ना हो
पर तुम धीरे धीरे मेरी नफरत को जगाते रहे । 

Aate jate tum mujhe rulate rahe
Mere dil mein jaage pyar ko sulate rahe
Maine bahut koshish ki tumse nafrat na ho
Par tum dhire dhire meri nafrat ko jagate rahe.... 

breakup nafrat shayari for boyfriend

 

नफरत के एक मिनट में
सालों की मोहब्बत कैसे भूल गए तुम
फरेबी चाहत थी तुम्हे हमसे
इसीलिए तुमसे दूर हो गए हम ।

Nafrat ke ek minut mein 
salon ki Mohabbat kaise bhul Gaye Tum
farebi Chahat thi tumhen humse 
isliye tumse dur Ho Gaye ham....



प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना
अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना
वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे
पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

Pyar mein bewafai mile to gam Na Karna
Apni Aankhen kisi ke liye Nam Na Karna
Vah chahe lakh nafrate Karen tumse
Per tum apna pyar kabhi uske liye kam Na Karna.....
जीते थे कभी हम भी शान से
महक उठी थी फिजा किसी के नाम से
पर गुज़रे हैं हम कुछ ऐसे मुकाम से
की नफरत सी हो गयी है मोहब्बत के नाम से ।

Jite the kabhi ham bhi Shan se
Mahak uthi thi fiza kisi ke naam se
Per gujre Hain ham kuchh aise mukam se
Ki nafrat si Ho gai hai Mohabbat ke naam se....



ज़िन्दगी से नफरत किसे होती हैं
मरने कि चाहत किसे होती हैं
प्यार भी एक इतेफा़क होता हैं
वरना आँसूओ से मोहब्बत किसे होती हैं।

Jiandgi Se Nafrat Kise Hoti Hai
Marne Ki Chahat Kise Hoti Hai
Payar Bhi Ek Etefhak Hota Hai
Warna Aasuoo Se Mohbbat Kise Hoti Hai....

Nafrat ki shayari मुझे प्यार से नफरत है

 

ये चेहरा जो कभी तुम्हारी तस्वीर को देखकर 
मुस्कुरा दिया करता था
आज यह चेहरा तुम्हारी मुस्कुराती हुई तस्वीर को 
देख के भी रो देता है ।

Yah chehra Jo kabhi tumhari tasvir Ko dekhkar 
muskura Diya Karta tha
AaJ yah chehra tumhari muskurati Hui tasvir ko 
dekh kar bhi roo deta hai....


दिल में बांध ली मैंने एक गाठ नफ़रत की
तू कबील ही नहीं दिल के मेरे
बीच राह में तू किसी और का हो गया 
तो क्या चेलेगा ज़िंदगी भर साथ मेरे

Dil me baandh li Maine ek ganth nafrat ki
Tu kaabil hi nhi dil ke mere
Beech raah me tu kisi or ka ho gaya
To kya chalega zindagi bhar sath mere.....

मेरी जिंदगी को एक तमाशा बना दिया उसने
भरी महफ़िल में तन्हा बिठा दिया उसने
ऐसी क्या थी नफ़रत उसको मेरे मासूम दिल से
ख़ुशियाँ चुरा कर गम थमा दिया उसने ।

Meri jindagi ko ek Tamasha banaa Diya usne
Bhari mahfil mein tanha bitha Diya usne
Aisi kya thi nafrat usko mere Masoom Dil se
Khushiyan churakar gam thama Diya usne.....

 

लगता  है आज फिर कोई आँधी आने वाली है
दर्द को दर्द से नफरत होने वाली है
शायद मोहबत्त दरवाजे पर दस्तक देने वाली है।

Lagta hai aaj fir koi aandhi aane wale hai
Dard ko dard se nafrat hone wali hai
Sayed mohabbat darwaje par dastak dene wali hai...

dard nafrat shayari नफरत शायरी फॉर Girlfriend



नफरत को मुहब्बत की आँखो में देखा
बेरुखी को उनकी अदाओ में देखा
आँखें नम हुए और मै रो पड़ा
जब अपने को गैरों कि बाहो में देखा । 

Nafrat ko mohabbat ki aankhon me dekho
Berukhi ko unke adao me dekha
Ankhen nam hui Aur mai too pada
Jab apne ko gairon ki baho me dekha... 




नफरतों का सिलसिला जारी  है
लगता है दूर जाने की तयारी है
दिल तो पहले दे चुके हैं हम
लगता है अब जान देने की बारी है । 

Nafraton ka silsila jare hai
Lagta hai door jane ki taiyari hai
Dil toh pahle de chuke hai hum
Lagta hai ab jaan dene ki bari hai....



मोहब्बत है कि नफरत है कोई इतना तो समझाएं
कभी मैं दिल से लड़ता हूं कभी दिल मुझसे लड़ता है। 

Mohabbat Hai Ki Nafrat Hai
Koi Itna Toh Samjhaye
Kabhi Main Dil Se ladta Hun
Kabhi Dil Mujh Se Ladta Hai.... 

 

i hate you shayari(pyar ke naam se nafrat shayari) 

हमें भुलाकर सोना तो तेरी आदत ही
बन गई है ऐ सनम किसी दिन हम सो
गए तो तुझे नींद से नफ़रत हो जायेगी। 

Hame bhulakar sona toh tere adat hi
Ban gaye hai aye sanam kise din
Ham soo gaye toh tujhe nind se nafrat ho jayegi...



गफलतों से भरी ज़िन्दगी में हर इंसान परेशान है
तामीर महल है और बदन दो घडी का मेहमान है
भरोसे के काबिल कोई ना बदलते सबके ईमान है
अब नफरतो से बदलते दिल और लोगो को गुमान है ।

Gaflaton se bhari zindagi me har insaan pareshaan hai
Tamir mahal hai aur badan do ghadi ka mehmaan hai
Bharose ke kabil koi na badalte sabke imaan hai
Ab nafraton se badalte dil aur logo ko guman hai....

End of Post- Nafrat shayari

दोस्तों आपको हमारी आज की Post – {Best 110+ } Nafrat Shayari दर्द भरी नफरत भरी शायरी ( Nafrat quotes)   कैसी लगी हमें comment करके जरूर बताये अगर आपको हमारी शायरी पसन्द आयी हो तो आप इन्हे अपने दोस्तों को भी whatsApp, Instagram, और Facebook पर जरूर share kare.
Post by dardbharishayari.com
Thank you

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *