| | | |

|Best 150+ | Mirza Ghalib Shayari मिर्जा गालिब की दर्द भरी शायरी ।

Mirza Ghalib Shayari
5/5 - (1 vote)

Ghalib Shayari in hindi english- दोस्तों आज हम आपके लिए मिर्जा गालिब की मशहूर शेरो शायरी लेकर आए हैं यहां आपको ghalib shayari status, mirza ghalib love shayari,ghalib shayari sad,ghalib shayari urdu,best ghalib shayari हिंदी और इंग्लिश दोनों में मिलेंगे। यहाँ से आप अपनी किसी भी पसंद की शायरी को copy करके अपने whatsApp status पर भी लगा सकते हैं। 

Heart Touching Mirza Ghalib Shayari in Hindi

 

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते।

Hathon ki lakkero par mat jaa aye ghalib
Naseeb unke bhi hote hai
Jinke hath nhi hote.... 

 

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है । 

Har ak baat par kehte ho tum ki tu kya hai?
Tumhi kaho ki ye andaaj-e-guftgo kya hai..

 

दिल ए नादान तुझे हुआ क्या है?
आखिर इस दर्द की दवा क्या है। 

Dil-E-Nadaan Tujhe Hua Kya Hai
Aakhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai

 

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश है ग़ालिब
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे । 

Ishq par joor nhi hai ye vo atish hai ghalib
Ki lagaye naa lage aur bujhaye naa bujhe.. 
mirza ghalib shayari urdu

mirza ghalib shayari urdu

 

इश्क़ ने 'ग़ालिब' निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के । 

Ishq ne ghalib nikamma kar diya
Varna hum bhi admi the kaam ke... 

 

Mirza Ghalib Shayari in Hindi ग़ालिब की शायरी हिंदी में 2 Line

 

उसे पाना उसी को खोना उसी के लिए रोना
अगर यही इश्क़ है तो हम तन्हा ही अच्छे है।

Use pana usi ko khona usi ke liye rona
Agar yahi ishq hai toh hum tanha hi achhe hai.. 

Read More- Jaun Elia Sad Poetry जाऊं एलिया सैड पोएट्री हिंदी। (2024)

यह ना थी हमारी क़िस्मत की विशाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतजार होता। 

Yeh Na Thi Hamari Qismat
Ke Visaal-e-Yaar Hota
Agar Aur Jeete Rehte Yahi Intezaar Hota

Mirza Ghalib Best Shayari

 
 
मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले । 

Mohabbat mein nahi fark jeene aur marane ka
Usee ko dekhakar jeete hai jis ‘kaafir’ pe dam nikale.

 

जब लगा था तीर तब इतना दर्द न हुआ 'ग़ालिब'
ज़ख्म का एहसास तब हुआ
जब कमान देखी अपनों के हाथ में।

Jab laga tha teer tab itna dard na hua ghalib
Zakm ka ehsaas tab hua
Jab kamaan dekhi apno ke hath mein... 

 

बेवजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है । 

Bewajah nhi rota ishq me koi ghalib
Jise khud se badhkar chaho vo rulata jarur hai... 
 

Ghalib Shayari in Hindi ग़ालिब शायरी रेख़्ता

 
मौत का एक दिन मुकम्मल है
नींद फिर रात भर क्यों नही आती। 

Maut ka ak din mukammal hai
Nind fir bhi raat bhar kyu nhi aati.. 
 
 
आईना देख अपना सा मुंह लेकर रह गए
साहब को दिल ना देने पे कितना गुरूर था। 

Aayina dekh apna sa mooh lekar rah gaye 
Shahab ko dil na dene pe kitna guroor tha.... 
 
 
मेहरबान हो के बुला लो मुझे चाहे जिस वक्त
मैं गया वक़्त नहीं हूं की फिर आ भी ना सकूं। 

Meharbaan ho ke bula lo mujhe chahe jis waqt
Main gaya waqt nhi hoon ke fir Aa bhi na saku... 
 
 
ना था कुछ तो खुदा था, कुछ ना होता तो खुदा होता
डुबोया मुझको होने ने,ना मैं होता तो क्या होता । 

 
Naa tha kuch toh khuda tha
Kuch naa hota toh khuda hota
Duboya mujhe ko hone ne
Naa mai hota toh kya hota... 
 
हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले। 

Hajaron khwaishe aise ki har khwaish pe dam nikle
Bahut nikle mere armaan lekin fir bhi kam nikle... 
 

Ghalib Shayari in Urdu मिर्जा गालिब के मशहूर शेर

 
 
तुम ना आए तो क्या सहर ना हुई
हाँ मगरचैन से बसर ना हुई
मेरा नाला सुना जमाने ने
एक तुम हो जिसे खबर ना हुई।

Tum na aaye toh kya sahar na hui
Haan Magar Chain Se Basar Na Huyi
Mera Nala Suna Zamane Ne
Ak tum ho jise khabar na hui... 
 
 
कुछ तो तन्हाइयों की रातों में सहारा होता
तुम ना होते ना सही जिक्र तुम्हारा होता । 

Kuch toh tanhaiyon ki raaton me sahara hota
Tum na hote naa sahi jikr tumhara hota.. 
 
 
इतना दर्द ना दिया कर ए जिंदगी 
इश्क किया है कोई कत्ल नहीं । 

Itna dard naa diya kar aye zindagi
Ishq kiya hai koi katl nhi.... 
 
हम तो फना हो गए उसकी आँखे देखकर ग़ालिब
ना जाने वो आईना कैसे देखते होंगे। 

Hum toh fana ho gaye uski ankhe dekhkar "Ghalib"
Naa jane vo aayina kaise dekhte honge.. 
 
 
लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में
और हम थक गए मुस्कुराते- मुश्कुराते। 

Log kehte hai dard hai mere dil mein
Aur hum thak gaye muskurate muskurate...
 

Ghalib Shayari On Love मिर्ज़ा ग़ालिब के शेर हिंदी में

 
 
मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले । 

Mohabbat mein nhi fark jene aur marne ka
Usi ko dekhkar jite hai jis "Kafir " Pe dam nikle... 
 
heart touching mirza ghalib shayari in hindi
heart touching mirza ghalib shayari in hindi
 
किसी फ़कीर की झोली में कुछ सिक्के डाले तो ये एहसास हुआ
महगाई के इस दौर में दुआएं आज भी सस्ती है। 

Kise fakir ki jholi me kuch sikke dale toh Yeh ehsaas hua
Mahgai ke iss dour mein duaayen aaj bhi saste hai.... 
 
 
अब लगता है ठीक कहाँ था ग़ालिब ने
बढ़ते बढ़ते दर्द दवा हो जाता है। 

Ab lagta hai thik kaha tha "ghalib" Ne
Badhte badhte dard dava ho jata hai... 
 
 
हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन 
दिल के बहलाने को "ग़ालिब" ये ख्याल अच्छा है। 

Humko maloom hai jannat ki hakikat
Lekin dil ke bahlane ko ghalib ye khayal achha hai...... 
 
 
फरिश्ते ही होते होंगे जिनका इश्क मुकम्मल हुआ
इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है। 

Farishte hi hote honge jinka ishq mukammal hua
Insaano ko toh humne sirf barbaad hote dekha hai... 
 

Mirza Ghalib Sad Shayari Whatsapp Status

 
 
दर्द मिन्नत कशे दवा ना हुआ
मैं ना अच्छा हुआ बुरा ना हुआ
हम कहां किस्मत आजमाने जाएं
तू ही जब खंजर आजमा ना हुआ। 

Dard minnate kash -e- dava na hua
Mai na achha hua bura na hua
Hum kaha kismat ajmane jaye 
Tu hi jab khanjar Aazma na hua... 
 
 
दिल ही तो है न संग ओ खिष्त
दर्द से भरना आए क्यों
रोएंगे हम हजार बार
कोई हमें सताई क्यों। 

Dil hi toh hai na sang o khisht
Dard se bharna aaye kyu
Royenge hum hajar baar
Koi hame sataye kyu.... 
 
 
यही है आजमाना तो सताना किसको कहते हैं
अदू के हो लिए जब तुम, तो मेरा इंतेहा क्यों हो? 

Yahi hai ajmana toh satana kisko kehte hai
Adu ke ho liye jab tum, toh mera imteha kyu ho? 
 
 
वो आए मेरी कब्र पर अपने हमसफर के साथ
कौन कहता है कि दफनाए हुए को जलाया नहीं जाता। 

Woh aaye mere kabar par apne humsafar ke sath
Kaun kehta hai ki Dafnaye hua ko jalaya nhi jata... 
 
 
दुख देकर सवाल करते हो
तुम भी ग़ालिब कमाल करते हो। 

Dukh dekar sawal karte ho
Tum bhi ghalib kamal karte ho... 

Final Words

दोस्तों आपको हमारीआज की Post – Best 150+ |Ghalib Shayari मिर्जा गालिब की दर्द भरी शायरी कैसी लगी हमें comment करके जरूर बताये अगर आपको हमारी शायरी पसन्द आयी हो तो आप इन्हे अपने दोस्तों को भी whatsApp, Instagram, और Facebook पर जरूर share kare.
Post by dardbharishayari.com
Thank you
 

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *